Saturday, April 27, 2019

SEO Best Strategies in Hindi (Advanced) - SEO किया है, SEO कैसे करें।

Search Engine Optimization ( SEO ) जो की बहुत जरूरी है अगर आपको अपनी वेबसाइट और Blog को Google और बाकी सर्च इंजन पर रैंक करवाना है। अपनी वेबसाइट को गूगल पर रैंक करवाना यह सभी Web डेवलपर्स के लिए सर दर्द से काम नहीं। अगर आपको SEO की पूरि जानकारी है तो हो सकता हे की फिर भी इस पोस्ट में आप कुश नया सीख़ लें, अगर SEO की जानकारी नहीं  है तो यह पोस्ट आपके लिए ही लिखी गई है। इस पोस्ट में हम SEO की बहुत ही Basic Techniques के बारे में बात करेंगे।
Advanced SEO Strategies

What is SEO ( SEO किया है )

SEO को अगर पूरा लिखे तो इसका मतलब होता हे Search Engine Optimization, आप ने वेबसाइट बनाई है जब तक आप उसे Search Engine से जोड़ो गे नहीं गूगल को आपकी वेबसाइट के बारे में कैसे पता चलेगा। SEO करने का मतलब होता है की search Engine को आपकी बनाई हुई वेबसाइट और वेबसाइट पर किया Contents है उसमें उसके बारे में बताना। आपकी वेबसाइट अगर सर्च इंजन से जुडी है तो आपकी वेबसाइट के बारे में लोगो को पता चलेगा और आपकी आपकी वेबसाइट Website पर Traffic बढ़ेगा। अगर आप चाहते है की आपकी वेबसाइट को ज़्यादा से ज़्यादा लोग देखें तो इसके लिए आपको SEO करना होगा। आपको अपनी वेबसाइट को Popular और Search Engine पर Top में रैंक करवाना है तो आपको अपनी वेबसाइट का SEO करना पड़ेगा। अगर सर्च इंजन की बात करें तो इंटरनेट की दुनिया में बहुत से सर्च इंजन हैं जैसे की Google, Bing, Yahoo, Yandex, यह सभी बहुत ही Popular सर्च इंजन हैं, लेकिन Google Search Engine सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है। सभी Google Search Engine पर ही अपनी वेबसाइट रैंक करवाना चाहते हैं। आपकी वेबसाइट कितनी भी अच्छी हो पर बिना SEO उस पर ट्रैफिक नहीं आएगा।

SEO काम कैसे करता है।

Search इंजन पूरी तरह से Algorithams पर काम करता है।  यह Algorithams इस तरह से बनाये जाते हैं की जब भी आप कोई पोस्ट Publish करते हैं तो सर्च इंजन उसका पूरी तरह से Analysis करता है, जैसे आपका कंटेंट कैसा है, कितने शब्द का इस्तेमाल किया गया है, आपने किस Keywords पर पोस्ट लिखी है, और आपकी पोस्ट दिखने में कैसी है।अल्गोरिथम एक Rules ही है जिसको Google और बाकी सर्च इंजन द्वारा समय-समय पर Update किया जाता है। हमको जभ भी कुछ सर्च करना होता है तो हम सर्च इंजन पर सर्च करते है और Search में जो भी Keywords लिखते हैं सर्च इंजन उससे Related ही Page हमें First Page पर दिखाता है। इस लिए सर्च इंजन को बताना पड़ता है की जो भी Keyword सर्च किया जा रहा है उससे Related Keywords आपकी वेबसाइट पर भी है।

SEO से जुड़ी Important Abbreviation और परिभाषा।

  1. SERP (Search Engine Result Page): जभ भी आप सर्च इंजन पर कुश भी सर्च करते हो तो जो भी Page आपके सामने खुल के आता है उसे SERP कहा जाता है। SERP के लिए आपकी Website की अच्छी रैंकिंग चाहिए।
  2. Impressions: आपकी वेबसाइट सर्च इंजन पर कितनी बार दिखाई देती है उसे Impressions कहते है।
  3. CTR ( Click Through Rate ): आपकी वेबसाइट के सर्च इंजन पर जो Impressions आए हैं उन इम्प्रेशन्स पर कितनी बार User द्वारा Click किया गया है। CTR = Clicks / Impressions इसका फार्मूला होता है।
  4. Robot.txt: इस से सर्च इंजन को आपकी वेबसाइट की Structure पता चलती है।
  5. Backlinks: अपनी वेबसाइट को किसी दूसरी वेबसाइट से लिंक करना और जो आपकी वेबसाइट के बारे में बताए उसे बैकलिंक कहते है। इस से आपकी वेबसाइट पर Traffic Increase होता है  जिस कारण आपकी वेबसाइट की रैंकिंग बड़ती है।
  6. Title Tag: आपकी वेबसाइट के Title को टाइटल टैग कहते हैं।
  7. Meta Tag: इस से आपकी वेबसाइट के Contents के बारेमे पता चलता है।

Types of SEO और SEO करना कैसे है।

SEO मुख्य रूप से दो प्रकार से किया जाता है On-Page SEO और Off-Page SEO, इन दोनों SEO को करना पड़ता है क्योंकि दोनों का काम अलग अलग है। यह दोनों SEO आपकी वेबसाइट को रैंक करवाने में मदद करेंगे। इन दोनों पर Details में बात करना जरूरी है।
Advanced SEO Strategies in Hindi

On-Page SEO 

आपकी वेबसाइट पर सीधे तौर पर काम करता है। आपकी वेबसाइट पर Keyword, Content, और आपकी वेबसाइट के डिज़ाइन पर काम करता है। On-Page SEO के बहुत से Rules होते हैं जैसे की आपकी Website Theme User Friendly होनी चाहिए, आपके वेबसाइट पर जो Contents है वह Unique होना चाहिए, आपकी वेबसाइट उन Keywords पर होनी चाहिए जो बहुत ज्यादा सर्च किये जाते है, और आपने अपनी वेबसाइट में Title और Meta Tag का इस्तेमाल कैसे किया है। आपकी वेबसाइट का SEO इन सभी पर निर्भर करता है।

Website Design

आपकी वेबसाइट का थीम बहुत ही Simple और Attractive होना चाहिए। आपको Premium Theme ही इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि इस से वेबसाइट Loading समय कम होता है और स्पीड़ बढ़ती है। । आपकी वेबसाइट का डिज़ाइन ऐसा हो की यूजर आसानी से Navigate कर सकें। आपकी वेबसाइट पूरी तरह से User friendly हो।

Website Speed 

अगर आपको अपनी वेबसाइट का SEO बढ़ाना है तो आपको वेबसाइट स्पीड पर भी धयान देना पड़ेगा। अगर आपकी वेबसाइट स्पीड कम है तो यूजर आपकी वेबसाइट देखे बिना ही उसे छोड़ दूसरी वेबसाइट ओपन कर लेगा। Website Speed को बढ़ाने के लिए आप Compression टूल्स का इस्तेमाल कर सकते है जिससे लोडिंग स्पीड इनक्रीस होगी। आप अपनी वेबसाइट पर ज्यादा Plugins के इस्तेमाल से बचें। आप जो भी फ़ोटो का इस्तेमाल कर रहें हैं कोशिश करें उसका साइज कम से कम  हो।

Proper Navigation

आपकी वेबसाइट इस तरह से मैनेज की गई हो की यूजर को आपकी वेबसाइट पर Navigate करना बहुत सरल हो। आपकी वेबसाइट पर Menu और Labels का सही स्थान पर लगें हो। वेबसाइट पर Menu और Labels सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए।

Permalink

आपने जो पोस्ट लिखी है उसका Permalink छोटा और आपकी पोस्ट के टाइटल के साथ मेल खाता हो। आप अपनी पोस्ट के पर्मालिंक को एडिट कर उसे जरूरत अनुसार बदल सकते हैं।

Internal Linking

आप अपनी वेबसाइट की पोस्ट्स की एक दूसरे के लिंकिंग कर अपनी वेबसाइट के SEO को बड़ा सकते है। इससे आपकी वेबसाइट आसानी से रैंक हो सकती है।

Title Tag

आपकी वेबसाइट का Title ऐसा हो की पड़ने में भी आसान हो और उससे आपकी वेबसाइट किस प्रकार की है आसानी से पता चलता हो। आप अपनी वेबसाइट का टाइटल 65 शब्दों से ज्यादा न करें इससे ज्यादा शब्द Google द्वारा काट दिए जाते हैं।

Alt Tag

आप अपनी वेबसाइट पर पोस्ट में कम से कम 2 Images का इस्तेमाल करें और उस फोटो का SEO करना न भूलें। हमेशा फोटो लगाते समय उसमें Alt टैग जरूर लगायें।

Headings

आप  वेबसाइट पोस्ट में H1, H2, H3 इत्यादि हैडिंग का इस्तेमाल जरूर करे यह हेडिंग्स आपके SEO पर बहुत असर करतें हैं। जिस Keyword पर आप पोस्ट लिखें उसे Heading में जरूर लिखें।

Keyword और Contents

आप जिस Keyword पर Content लिखें वह 1000 शब्द का होना चाहिए, और आपका कॉन्टेंट Unique होना चाहिए। पोस्ट लिखते समय दूसरे का Content कॉपी न करें बस एक आईडिया लिया जाए की पोस्ट कैसे लिखनी है।


Off-Page SEO

Off-Page SEO आपकी वेबसाइट की external लिंकिंग पर काम करता है। Off-Page SEO से हमारी वेबसाइट Domain Authority बड़ाई जा सकती है। Off-Page SEO कैसे किया जा सकता है नीचे देखते हैं। 

Webmaster Tool 

आप अपनी वेबसाइट को Google Webmaster Tool पर सबमिट करें ,अपनी वेबसाइट का Sitemap वेबमास्टर पर जरूर ऐड करें। आप जब भी कोई पोस्ट लिखें उसे Webmaster Submit करना न भूलें। 

Website Directory Submission 

आप अपनी वेबसाइट को High Page Rank वेबसाइट डायरेक्टरी पर जरूर Submit करें। 

Social Media 

आप अपनी पोस्ट को Faceook, Twitter, Pintrist पर शेयर जरूर जरूर करें, इससे आपकी वेबसाइट का Page Rank हाई होगा। आप IFTTT और Buffer की मदद से सोशल मीडिया पर आटोमेटिक पोस्ट शेयर कर सकतें हैं। 

Blog Commenting 

आप अपनी वेबसाइट से मिलती वेबसाइट और Blog पर जाकर अपनी वेबसाइट का लिंक कमेंट कर सकते हैं, आप Quara जैसी वेबसाइट पर Q & A  में लिंक दे सकते हैं। 

दोस्तों मैंने यह पोस्ट अपने दो साल की जो भी मुझे SEO की समझ थी उस अनुसार लिखी है उम्मीद करता हूँ आपको यह पोस्ट पसंद आई हो, आप मुझे कमेंट में कोई भी Suggestion दे सकते हैं।  हमारी इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर करें। 
---धन्यवाद---

Thursday, April 25, 2019

Android Virus - How to Detect Mobile Virus, Android Antivirus

Android Smartphone का इस्तेमाल दुनिया में कुल 75% से ज्यादा लोग करते है। Android Mobile का इस्तेमाल करना अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम के मुकाबले बहुत ही आसान है।  एंड्राइड में आपको बहुत सारी नई Applications मिलती है इस लिए यह Operating System सबसे ज्यादा लोक प्रिय है। आपको पता है एंड्राइड में Virus का ख़तरा सबसे अधिक होता है। आपने देखा होगा Android Mobile की समय के साथ कार्य क्षमता कम हो जाती है। आपके मोबाइल में भी वायरस अटैक कर सकता है  इस लिए इस पोस्ट को पूरा देखें  इसमें आपको Mobile Virus को मोबाइल में है कैसे पता करें और उस वायरस को Remove कैसे करना है।
Android Virus, Android Antivirus

Mobile में Virus से होने वाले नुकसान।

  1. आपका मोबाइल की प्रोसेसिंग स्पीड कम हो सकती है।
  2. Mobile में बहुत सी Applications अपने आप इनस्टॉल हो सकती है।
  3. मोबाइल में डेटा अपने आप डिलीट हो सकता है।
  4. आपका मोबाइल ख़राब हो सकता है।
  5. आपके मोबाइल का Battery Backup कम हो सकता है। 
  6. आपके मोबाइल की Storage क्षमता कम हो सकती है। 

Mobile में Virus का कैसे पता लगायें। 

1. Mobile Processing जब धीमी हो जाये।

आपने जब भी नया मोबाइल लिया होगा उस समय उसमें किसी भी तरह का कोई भी Virus नहीं होता और उसकी Processing स्पीड भी बहुत बड़ीआ होती है।  जब हम उसका इस्तेमाल करते है तो हम देखते है की हमारा मोबाइल धीमा पड़ गया है उसका कारण एक तो जब Storage मेमोरी का भर जाना और दूसरा कारण उसका Virus हो सकता है।

2. Unwanted Applications का अपने आप Install होना। 

हमारी आपको यही सलाह है कि आप जब भी कोई नयी एप्लीकेशन इनस्टॉल करें तो हमेशा उसे Google Play Store से ही करें। आपने ने देखा होगा कई बार Browser का इस्तेमाल करते समय आपको एप्लीकेशन डौन्लोडिंग की ऑप्शन मिलती है Browser से सीधा Download की गई एप्प के साथ आपके मोबाइल में भी Virus आ जाता है और कई बार एक एप्प साथ और भी एप्प Download  और Install हो जायेगी।  इस लिए आप हमेशा गूगल Play Store  से ही ऍप्लिकेशन्स डाउनलोड करें। 

3. Data Automatically Delete होना। 

आप देखते है की आपके मोबाइल से Data अपने आप Delete हो रहा हैऔरआपके मोबाइल मे जो Files है उनका शोर्टकट Create हो रहा है। कई बार आप देखते है की आपके मोबाइल मे जो भी डेटा है जैसे की Photos, Videos, Documents, Audios, इनका शॉर्टकट बन गये हैं आप जब यह Open नहीं कर पाते हो और यह डेटा Delete हो गया है। 

4. Battery Backup का कम होना। 

वायरस हमारे फ़ोन की बैटरी पर भी दुष परभाव डालता है। आपके मोबाइल का Battery Backup वायरस के कारण भी कम हो सकता है।  यह जरूरी नहीं की वायरस के कारण आपके मोबाइल का बैटरी बैकअप कम हो रहा है। लेकिन अगर आपके मोबाइल की बैटरी ख़राब नहीं है और फिर भी बैटरी की क्षमता कम है और मोबाइल गरम हो रहा है तो यह निश्चित है की इसका कारण वायरस है। 

5. मोबाइल की Storage Capacity का कम होना। 

आपके मोबाइल में वायरस के कारण आपके Mobile की storage Capacity कम हो जाती है। Virus आपके मोबाइल में Unwanted फ़ाइल को Create करता है जो आपके मोबाइल की स्टोरेज पर प्रभाव डालता है। 

Sunday, April 21, 2019

Lok Sabha Election - Voter List, Check Name in Voter List

Voter List

देश भर में Lok Sabha Election 2019 का प्रचार जोरो से चल रहा है, सभी राजनीतिक पार्टी इस को युद्ध विजय करने की कोशिश में लगी हुई है। इलेक्शन कुल सात भागों में होगा और 11 अप्रैल से 19 मई तक होगा। देश में इलेक्शन शुरू होने वाले है। इलेक्शन से पहले पूरे भारत देश में सभी राज्यों में Voter List तैयार हो चुकी है। इस नई Voter List में नए वोटर भी शामिल है और कुश वोटरों की वोट किसी कारण से वोटर लिस्ट से काट दी गई है। आप ऑनलाइन अपना नाम वोटर लिस्ट में चैक कर सकते है। अगर आपको अपनी असेंबली क्षेत्र और वोटर लिस्ट से सबंधी कुश Details को update करना है  तो आप कुश फॉर्म Fill करके कर सकते है। इलेक्शन कमीशन के अनुसार 90 करोड़ के लगभग Eligible मतदाता मतदान करेंगे। इस बार 13 करोड़ नए मतदाता भी इस नयी वोटर लिस्ट में शामिल है। 
Name in Voter List


Lok Sabha Election 2019: How to Check Name in Voter Lists

1. Go to National Voter Service Portal (NVSP) for search voter list: http://electoralsearch.in
2. Enter Name, Father or Husband's Name, Age, Date Of Birth, Gender, State, District, and Assembly Constituency and Search.
3. Alternatively, you can check by entering the EPIC number this number is mentioned in bold letters on your voter identity card.
4. You can also apply for shifting to a different Assembly Constituency by filling up Form 6 
5. Apply for corrections in electoral roll entry by filling up Form 8 on National Voter Services Portal (www.nvsp.in)